ट्रेजरी बिल क्या है और कैसे खरीदें? (How To Invest In Treasury Bills)


आज की इस पोस्ट मे हम एक ऐसे इनवेस्टमेंट ऑप्शन के बारे मे बात करेंगे जो न केवल फिक्स डेपोजिट (FD) से ज्यादा रिटर्न देता है बल्कि FD से ज्यादा सेफ भी है, हम बात कर रहे है ट्रेजरी बिल के बारे मे –

ट्रेजरी बिल क्या है? (T Bill In Hindi)

जिस तरह हमारे पैसों को इन्वेस्ट करने के लिए अलग-अलग गवर्नमेंट की सिक्युरिटीस होती है उसी प्रकार ट्रेजरी बिल भी एक Government Security होती है जो न सिर्फ एक अच्छा Investment Option है बल्कि एक बेहतर रिटर्न वाला इनवेस्टमेंट ऑप्शन है|


Treasury Bills को सरकार RBI की मदद से लोंच करती है यह तब लोंच किये जाते है जब सरकार को 1 साल से कम समय के लिए पैसो की आवश्यकता होती है| कम समय के लिए पैसों की कमी को पूरा करने के लिए Treasury Bills लॉन्च किए जाते है और इस पर सरकार ब्याज देती है |

Interest On Treasury Bills (ट्रेजरी बिल पर ब्याज)

इस Bills पर मिलने वाला ब्याज हमे फिक्स डेपोजिट या बॉण्ड की तरह सीधे नही मिलता है बल्कि इसकी रेट के अंतर के आधार पर मिलता है| आमतौर पर T-Bills अपनी वास्तविक कीमत से कम कीमत पर यानि डिस्काउंट पर जारी किये जाए है पर जब यह बिल्स वापस लिए जाते है तो आपको इसकी वास्तविक कीमत चुकता की जाती है|

जैसे 100 रूपये की वस्तु आपको 94 में दी गयी पर जब आपसे वापस ली गयी तो आपको पुरे 100 रूपये दिए गए तो जो 6 रूपये का अंतर है वही आपका Interest है| ट्रेजरी बिल मे आपको FD के मुकाबले अधिक ब्याज मिलता है|

T-Bill को ऑक्शन की तरह इशू किया जाता है| 2016 से पहले टी-बिल कुछ लिमिटेड इन्वेस्टर को ही इस्सू किये जाते थे पर 2016 के बाद से यह बिल्स सबके लिए Open कर दिए गए है|


Types Of Treasury Bills (टी-बिल के प्रकार)


RBI T-Bills को जारी करने का Quarterly Calendar जारी करती है जो आपको RBI की वेबसाइट पर मिल जायेगा| ट्रेजरी बिल के Types इनकी अवधि पर निर्भर करते है सामान्यत: ट्रेजरी बिल 3 प्रकार के होते है –

  1. 91 Days – इस बिल को हर सप्ताह के बुधवार को इशू किया जाता है|
  2. 182 Days – इस बिल को हर सप्ताह के अल्टरनेटिव बुधवार (एक बुधवार छोड़कर अगले बुधवार) को इशू किया जाता है|
  3. 364 Days – इस बिल को भी हर सप्ताह के अल्टरनेटिव बुधवार को इशू किया जाता है|

मान लीजिए आप 182 दिनों वाले टी बिल को डिस्काउंट पर खरीदते है तो 182 दिन पुरे होने के बाद जब आप टी बिल रिटर्न करते है तो उसका एक्चुअल प्राइस आपको मिल जायेगा और जो प्राइस का अंतर होगा वो आपका इंटरेस्ट होगा| RBI इससे सम्बंधित कुछ बाते गाइडलाइन्स अपनी वेबसाइट पर जारी करती है|

How To Buy T-Bills (टी-बिल्स कैसे खरीदें)


टी बिल्स को हम NSE की GoBID App से खरीद सकते है लेकिन यह बहुत Long Process होगा| टी बिल को Buy करनें का सबसे सही तरीका स्टॉक ब्रोकर है इनके द्वारा टी-बिल्स सीधे हमारे डीमेट अकाउंट में ट्रान्सफर कर दिये जाते है| यदि आपने अब तक डीमेट खाता नहीं खुलवाया है तो इस लिंक की सहायता से आप बड़ी ही आसानी से अपने मोबाइल फ़ोन से ही डीमेट अकाउंट Open कर सकते है – अभी डीमेट अकाउंट खोलें

Zerodha मे डीमेट अकाउंट ओपन करने के बाद जीरोधा के Coin App मे Log In करके आप टी-बिल को खरीद और बेच सकते है|

डीमेट अकाउंट से टी-बिल्स खरीदने का एक फायदा यह भी है की आप टी-बिल की अवधि ख़त्म होने से पहले ही उसको बेच सकते है| मान लीजिए आपने 91 Days का टी-बिल ख़रीद लिया है लेकिन अब आप उसे 91 दिन से पहले ही बेचना चाहते है तो आप अपने डीमेट अकाउंट से ही उस टी-बिल की करंट प्राइस पर उसे Stock Exchange पर सेल कर सकते है|

यहाँ पर करंट प्राइस का मतलब है जब आप बिल को बेच रहे होंगे तो उस वक्त उस बिल की मार्किट में जो भी कीमत होगी|

Read: Best Demat Accounts


Tax On Treasury Bills (ट्रेज़री बिल पर टैक्स के नियम)


टी बिल्स एक साल से कम के लिए होते है इसलिए इन पर हमे Short Term Capital Gain Tax देना होता है जो की निवेशक की टैक्स स्लैब पर निर्भर करता है| यह ट्रेडिंग के टैक्स नियमो की तरह ही है जिस प्रकार आप शेयर बाजार में शेयर की खरीद-बेच पर अपना इनकम टैक्स देते है, टी-बिल पर भी आपको उसी प्रकार टैक्स देना है|

Features and Advantages of Treasury Bills

  • इस बिल्स में बेहतर रिटर्न के साथ रिस्क नहीं के बराबर होता है|
  • यह बिल सेफ और सिक्योर इन्वेस्टमेंट ऑप्शन होते है|
  • टी-बिल्स को सिर्फ सेंट्रल गवर्नमेंट ही Issue कर सकती है|
  • टी-बिल में जीरो रिस्क डिफौल्ट होता है, क्योंकि यह बिल्स RBI की मदद से इशू करवाए जाते है|
  • इनकी लिक्विडिटी हाई होती है क्योंकी इन बिल्स को हम कभी भी बेच कर कैश ले सकते है|
  • अगर हम शॉर्ट टर्म इनवेस्टमेंट करते है तो उसके लिए भी टी-बिल काफी बेहतर है क्योंकि ये कम समय मे ही हमे गारंटीड इनकम देता है|

Read: SIP क्या है और इसमें निवेश कैसे करे?

FAQs Related To Treasury Bills

Q. ट्रेजरी बिल किसके द्वारा जारी किया जाता है?

ट्रेजरी बिल केंद्र सरकार द्वारा रिजर्व बैंक की सहायता से जारी किया जाता है|

Q. ट्रेजरी बिल कितने समय के लिए जारी किये जाते है?

टी-बिल 91, 182 और 364 दिनों की अवधि के लिए जारी किये जाते है|

Q. क्या टी-बिल में इन्वेस्टमेंट करने पर इनकम टैक्स देना पड़ता है?

हाँ, टी-बिल्स पर इनकम टैक्स एप्लीकेबल है| इस पर ठीक उसी प्रकार से इनकम टैक्स देना पड़ता है जिस प्रकार शेयर्स की खरीद-बेच (ट्रेडिंग) पर टैक्स दिया जाता है|

Read More :


गोपाल राजस्थान से है और इन्होंने B.Com से ग्रैजवैशन किया है| गोपाल एक अनुभवी कंटेन्ट राइटर है तथा इन्हे फाइनैन्स, इनवेस्टमेंट और डायरेक्ट टैक्स के बारे मे काफी अनुभव है|

0 Comments

Your email address will not be published.

ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट अकाउंट खोलें और निवेश करें