क्रेडिट का मतलब क्या होता है (Credit Meaning In Hindi)


क्रेडिट क्या है? (What Is Credit)

Credit का मतलब साख या उधार से है जो किसी भी सेवाओं या वस्तुओ के क्रय के लिए उधार लेना और निश्चित अवधि के बाद भुगतान करना है| इसके आलावा भी क्रेडिट के कई अर्थ होते है जैसे –

  • ऋण
  • भरोसा करना
  • कर्जा
  • जमा धन
  • जमा करना
  • बैंक के खाते में जमा राशि
  • बैंक द्वारा उधार दी गयी राशि
  • श्रेय लेना (किसी काम को करने का क्रेडिट लेना)
  • Goodwill (ख्याति)

किसी भी व्यक्ति, व्यापारी या ऋणदायी द्वारा आपको उधार पैसे दिये जाते है, तो आपकी ख्याति देख कर दिये जाते है और आप पर भरोसा किया जाता है की आप निश्चित समय में उस ऋण का भुगतान कर देंगे और आपको उस साख योग्य माना जाता है उसे ही अच्छी साख (Good Credit)माना जाता है|

पहले के समय में लेनदार ऋण (लोन) देने से पहले सामने वाले व्यक्ति की प्रतिष्ठा और ख्याति देखते थे परन्तु वर्तमान में उस व्यक्ति के लेन देन का व्यवहार और Credit Score को देख कर देते है|

Credit आपकी वितीय और बैंकिंग शक्तियों का हिस्सा होता है| क्रेडिट आपकी जरूरत की चीजो को प्राप्त करने सहायक साधन माना जाता है|

Basis Of Credit Meaning

एक व्यक्ति की Credit या साख चार बातो पर आधारित होती है –

चरित्र – किसी भी व्यक्ति का चरित्र साफ और भरोसेमंद है और उसने भूतकाल में पुराने ऋण को अच्छे से चुकाया है तो उसकी Credit बढ़ेगी और वह भविष्य में उस ऋण को चुकाने के लिए लायक माना जायेगा |

क्षमता – केवल अच्छे चरित्र का और ईमानदार होना ही आवश्यक नही है उसमे ऋण चुकाने की क्षमता भी होना जरुरी है और साख प्राप्त करने के लिए इस विश्वास का होना आवश्यक है|

पूंजी – एक ऋणी की पूंजी भी उसकी साख को प्रभावित करती है, जितनी ज्यादा Capital होगी ऋण लेने की क्षमता भी उतनी आधिक होगी|

जमानत की सुरक्षा – सारे पूंजी ऋण के लिए वैधानिक सुरक्षा नहीं होती है इसलिए हमे ऋण देते समय किसी ऐसे साधन या संपत्ति को गिरवी रखा जाए जिसको आसानी से नकद में बदला जा सकता हो जैसे प्रोपर्टी के पेपर आदि, इससे ऋणी को आधिक समय मिल जायेगा ऋण का भुगतान करने में और यह प्रक्रिया लम्बे समय तक रह सकती है|

क्रेडिट अवधि (Credit Period)

Credit की अवधि एक निश्चित समय के लिए होती है जैसे – 6 महीने,1 साल, 2 साल या 5 साल| क्रेडिट की अवधि देनदार तय करता  है, की लिए गए ऋण की राशि और ब्याज कब तक चुकाने है|

बैंक में क्रेडिट का मतलब (Credit Meaning In Bank) 

बैंक में क्रेडिट का मतलब जमा (Deposit) से होता है, बैंक में किसी के भी खाते में कोई भी धन राशि जमा होती है या किसी व्यक्ति के द्वारा उसके खाते में भेजी जाती है तो उसे जमा अर्थात Credit कहा जाता है |

Bank Credit का अर्थ ऋण से भी होता है, Bank Credit वह कुल राशि है जो किसी भी बैंक या वितीय संसथान से उधार ली जाती है और जिसे निश्चित अवधि के बाद चुका दिया जाता है| बैंक क्रेडिट में क्रेडिट कार्ड, कार लोन, पर्शनल लोन व व्यवसाय ऋण शामिल है|

Read : डेबिट का क्या मतलब होता है?

Type Of Credit In Bank 

Credit Card – क्रेडिट कार्ड के जरिये आप किसी भी बड़ी वस्तु या सेवायों का भुगतान सकते है और निश्चित समय पर उस राशि को बाद में चुका सकते है यदि आपने निश्चित समय पर उस बिल को नही चुकाया है तो उस पर निश्चित दर से ब्याज भी वसूल किया जाता है|

Loan – किसी भी व्यापारी, ऋणदायी या बैंक से निश्चित ब्याज दरों पर ऋण (Loan) प्राप्त कर सकते है और अपनी आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की पूर्ति कर सकते है| यह पर्सनल लोन भी हो सकता है और होम लोन भी हो सकता है या अन्य किसी प्रकार का लोन भी हो सकता है|

FAQs

Q. बैंक मे रुपये जमा होने को क्या कहते है?

जब हमारे बैंक मे पैसे आते है या जमा होते है तो उसे क्रेडिट कहा जाता है|

Q. क्रेडिट कार्ड क्या होता है?

सरल भाषा में कहा जाये तो क्रेडिट कार्ड बैंक से रुपये उधार लेने के लिए बैंक द्वारा दिया गया कार्ड है| क्रेडिट कार्ड की सहायता से हम बैंक से कुछ निश्तित समय के लिए धन उधार ले सकते है|

Read More :


गोपाल राजस्थान से है और इन्होंने B.Com से ग्रैजवैशन किया है| गोपाल एक अनुभवी कंटेन्ट राइटर है तथा इन्हे फाइनैन्स, इनवेस्टमेंट और डायरेक्ट टैक्स के बारे मे काफी अनुभव है|

0 Comments

Your email address will not be published.

ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट अकाउंट खोलें और निवेश करें