पहाड़ से मजबूत हौसला : Story of Mountaineer Arunima Sinha

क्या आप सोच सकते है कि एक महिला जिसे चलती ट्रेन से लुटेरों ने फेंक दिया था जिसके कारण उनका एक पैर कट चुका है वह माउंट एवरेस्ट पर चढ़ सकती है! पढ़िए –

अरुणिमा सिन्हा की प्रेरणादायक कहानी 

Success Story of Arunima Sinha 

11 अप्रेल, 2011 ! राष्ट्रीय स्तर की वालीबॉल खिलाड़ी अरुणिमा सिन्हा, पद्मावती एक्सप्रेस में लखनऊ से दिल्ली जा रही थी| बीच रास्ते में कुछ लुटेरों ने सोने की चेन छिनने का प्रयास किया, जिसमें कामयाब न होने पर उन्होंने अरुणिमा को ट्रेन से नीचे फेंक दिया|

पास के ट्रैक पर आ रही दूसरी ट्रेन उनके बाएँ पैर के ऊपर से निकल गयी जिससे उनका पूरा शरीर खून से लथपथ हो गया| वे अपना बायाँ पैर खो चुकी थी और उनके दाएँ पैर में लोहे की छड़े डाली गयी थी| उनका चार महीने तक दिल्ली के आल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) में इलाज चला|

इस हादसे ने उन्हें लोगों की नज़रों में असहाय बना दिया था और वे खुद को असहाय नहीं देखना चाहती थी|

क्रिकेटर युवराज सिंह से प्रेरित होकर उन्होंने कुछ ऐसा करने की सोची ताकि वह फिर से आत्मविश्वास भरी सामान्य जिंदगी जी सके|

अब उनके कृत्रिम पैर लगाया जा चुका था और अब उनके पास एक लक्ष्य था| वह लक्ष्य था दुनिया कि सबसे ऊँची पर्वत चोटी माउंट एवेरेस्ट को फतह करना|

अब तक कोई विकलांग ऐसा नहीं कर पाया था|

एम्स से छुट्टी मिलते ही वे भारत की एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली महिला पर्वतारोही “बिछेन्द्री पॉल” से मिलने चली गई| अरुणिमा ने पॉल की निगरानी में ट्रेनिंग शुरू की|

कई मुसीबतें आई लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और धीरे धीरे पर्वतारोहण की ट्रेनिंग पूरी की|

 

प्रशिक्षण पूरा होने के बाद उन्होंने एवरेस्ट की चढ़ाई शुरू की| 52 दिनों की कठिन चढ़ाई के बाद आखिरकार उन्होंने

21 मई 2013 को उन्होंने एवेरेस्ट फतह कर ली| एवेरस्ट फतह करने के साथ ही वे विश्व की पहली विकलांग महिला पर्वतारोही बन गई|

एवरेस्ट फतह करने के बाद भी वे रुकी नहीं| उन्होंने विश्व के सातों महाद्वीपों की सबसे ऊँची पर्वत चोटियों को फतह करने का लक्ष्य रखा|

जिसमें से अब तक वे कई पर्वत चोटियों पर तिरंगा फहरा चुकी है और वे अपने इस लक्ष्य पर लगातार आगे बढ़ रही है|

 

वे अपने इस महान प्रयासों के साथ साथ विकलांग बच्चों के लिए “शहीद चंद्रशेखर आजाद विकलांग खेल अकादमी” भी चलाती है|

एक भयानक हादसे ने अरुणिमा की जिंदगी बदल दी| वे चाहती तो हार मानकर असहाय की जिंदगी जी सकती थी लेकिन उन्हें असहाय रहना मंजूर नहीं था| उनके हौसले और प्रयासों ने उन्हें फिर से एक नई जिंदगी दे दी|

अरुणिमा जैसे लोग भारत की शान है और यही वो लोग है, जो नए भारत का निर्माण करने में एक नींव का काम कर रहे है| युवराज सिंह से प्रेरित होकर अरुणिमा ने अपनी जिंदगी बदल दी और अब अरुणिमा कहानी हजारों लोगों की जिंदगी बदल रही है| 

अरुणिमा की कहानी निराशा के अंधकार में प्रकाश की एक किरण के सामान है जो सम्पूर्ण अन्धकार को प्रकाश में बदल देती है|  

All The Best

Be Happy with happyhindi.com

51 Comments

  1. amul sharma September 1, 2015
    • Siya patel July 31, 2016
  2. positive September 1, 2015
  3. positive September 1, 2015
  4. Dipali rai September 9, 2015
    • ravikumargaur June 9, 2016
  5. DEEPA RANA September 23, 2015
  6. Sahil November 18, 2015
  7. Ritik November 21, 2015
  8. Ritik November 21, 2015
  9. nandkishor surywanshi November 24, 2015
  10. Balram meena November 30, 2015
  11. jaya singh December 15, 2015
  12. avinash kumar December 25, 2015
  13. subhash January 8, 2016
  14. monu kumar January 12, 2016
  15. monu kumar January 12, 2016
  16. Dinesh Solanki February 7, 2016
  17. Rathin February 7, 2016
  18. ABHISHEK SHAH February 10, 2016
  19. Panduranga March 3, 2016
  20. hitesh kumar March 3, 2016
  21. Tahilraj mulani March 7, 2016
  22. सत्य प्रकाश पाण्डेय March 8, 2016
  23. Rushing sahu March 16, 2016
  24. P Bishnu March 20, 2016
  25. shambhavi April 11, 2016
  26. Ram bihari vrma April 19, 2016
  27. PRITESH KUMAR May 3, 2016
  28. Anjana June 7, 2016
  29. shankar June 20, 2016
  30. ajay June 21, 2016
  31. Sushil Raj June 24, 2016
  32. satyawan sandwa June 28, 2016
  33. Vishan arora July 10, 2016
  34. Seemagarg July 14, 2016
  35. Deepakkumar August 12, 2016
  36. Sandeep August 26, 2016
  37. PRAVEEN KUMAR October 12, 2016
  38. suraj yadav October 19, 2016
  39. Vijay October 27, 2016
  40. M.K.Gupta December 24, 2016
  41. Achhipost December 26, 2016
  42. sapna singh January 30, 2017
  43. Sandeep Kumar gorakhpur February 11, 2017
  44. PRADYOT KUMAR March 2, 2017
  45. vipul aditya March 5, 2017
  46. Durga April 12, 2017
  47. mahesh April 25, 2017
  48. S R Shah April 28, 2017
  49. Hareshyam singh kushwaha May 31, 2017

Leave a Reply