अधूरा सच – Heart Touching Story in Hindi


एक 25 वर्ष का लड़का ट्रेन में सफ़र करते वक्त खिड़की से बाहर के नज़ारे को देख रहा था|

वह अचानक चिल्लाया – “पापा, वो देखो पेड़ पीछे जा रहे है!”

पिताजी मुस्कराए|

पास में बैठा एक व्यक्ति, लड़के के इस बचपने व्यवहार को देखकर हैरान था और उसे लड़के पर दया आ रही थी|

थोड़ी देर बाद लड़का फिर ख़ुशी से चिल्लाया – “देखो पापा, बादल हमारे साथ चल रहे है!”

अब पास में बैठे व्यक्ति से रहा नहीं गया और उसने कहा – “आप अपने बेटे को किसी अच्छे डॉक्टर को क्यों नहीं दिखाते?”

लड़के के पिता ने कहा – “हम अभी अस्पताल से ही आ रहे है| दरअसल मेरा बेटा जन्म से ही अँधा था और आज ही उसको आँखे मिली है| आज वह पहली बार इस संसार को देख रहा है|”

heart touching hindi story

 

Everyone has a thier own story

 

हर व्यक्ति की अपनी एक कहानी होती है| सम्पूर्ण सच को जाने बिना किसी के भी व्यवहार के बारे में निर्णय नहीं करना चाहिए| हो सकता है कि जो दिख रहा है वह सम्पूर्ण सच न हो|

Don’t judge people before you truly know them. The truth might surprise you.Think before you say something.


Like it? Share with your friends!

ए. कुमार राजस्थान से हैं और वे सामान्य तौर पर बिज़नेस, टेक्नोलॉजी, वित्त और मोटिवेशनल स्टोरी के बारे में लिखते हैं| उनसे [email protected] पर संपर्क किया जा सकता हैं|

43 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  1. wow brealient senior kehte hai na mummy papa k pyar ka pyar ka karz kabhi ada nahi ho sakta
    full form of FAMILY
    F=father
    A=and
    M=mother
    I=i
    L=love
    Y=you
    today i know that it’s real in life

  2. कहानियां की छोटी जरूर थी लेकिन बहुत अच्छी थी मुझे पढ़कर बहुत अच्छा लगा धन्यवाद