जीवन क्या है? What is Life In Hindi

Life – जीवन

विलियम शेक्सपियर (William Shakespeare) ने कहा था कि जिंदगी एक रंगमंच है और हम लोग इस रंगमंच के कलाकार | सभी लोग जीवन (Life) को अपने- अपने नजरिये से देखते है| कोई कहता है जीवन एक खेल है (Life is a game), कोई कहता है जीवन ईश्वर का दिया हुआ उपहार है (Life is a gift), कोई कहता है जीवन एक यात्रा है (Life is a journey), कोई कहता है जीवन एक दौड़ है (Life is a race) और बहुत कुछ|

मैं आज यहाँ पर “जीवन” के बारें में अपने विचार share कर रहा हूँ और बताने की कोशिश करूंगा की जीवन क्या है? (What is Life)|

My Thoughts on Life in Hindi

जीवन क्या है?  – What is Life

 Thoughts on Life

मनुष्य का जीवन एक प्रकार का खेल है – Life is a Game और मनुष्य इस खेल का मुख्य खिलाडी|

यह खेल मनुष्य को हर पल खेलना पड़ता है|

इस खेल का नाम है “Game of Thoughts (विचारों का खेल)”|

इस खेल में मनुष्य को दुश्मनों से बचकर रहना पड़ता है|मनुष्य अपने दुश्मनों से तब तक नहीं बच सकता जब तक मनुष्य के मित्र उसके साथ नहीं है|

मनुष्य का सबसे बड़ा मित्र “विचार (thoughts)” है, और उसका सबसे बड़ा दुश्मन भी विचार (Thoughts) ही है| 

मनुष्य के मित्रों को सकारात्मक विचार (Positive Thoughts) कहते है और मनुष्य के दुश्मनों को नकारात्मक विचार (Negative Thoughts) कहा जाता है|

मनुष्य दिन में 60, 000 से 90, 000 विचारों (Thoughts) के साथ रहता है|

यानि हर पल मनुष्य एक नए दोस्त (Positive Thought) या दुश्मन (Negative Thought) का सामना करता है|

मनुष्य का जीवन विचारों के चयन (Selection of Thoughts) का एक खेल है|

इस खेल में मनुष्य को यह पहचानना होता है कि कौनसा विचार उसका दुश्मन है और कौनसा उसका दोस्त, और फिर मनुष्य को अपने दोस्त को चुनना होता है|

हर एक दोस्त (One Positive Thought) अपने साथ कई अन्य दोस्तों (Positive Thoughts) को लाता है और हर एक दुश्मन (One Negative Thought) अपने साथ अनेक दुश्मनों (Negative Thoughts) को लाता है|

इस खेल का मूल मंत्र यही है कि मनुष्य जब निरंतर दुश्मनों (Negative Thoughts) को चुनता है तो उसे इसकी आदत पड़ जाती है और अगर वह निरंतर दोस्तों (Positive Thoughts) को चुनता है, तो उसे इसकी आदत पड़ जाती है|

जब भी मनुष्य कोई गलती करता है और कुछ दुश्मनों को चुन लेता है तो वह दुश्मन, मनुष्य को भ्रमित कर देते है और फिर मनुष्य का स्वंय पर काबू नहीं रहता और फिर मनुष्य निरंतर अपने दुश्मनों को चुनता रहता है|

मनुष्य के पास जब ज्यादा मित्र रहते है और उसके दुश्मनों की संख्या कम रहती है तो मनुष्य निरंतर, इस खेल को जीतता जाता है| मनुष्य जब जीतता है तो वह अच्छे कार्य करने लगता है और सफलता उसके कदम चूमती है, सभी उसकी तारीफ करते है और वह खुश रहता है|

लेकिन जब मनुष्य के दुश्मन, मनुष्य के मित्रो से मजबूत हो जाते है, तो मनुष्य हर पल इस खेल को हारता जाता है और निराश एंव क्रोधित रहने लगता है|

मनुष्य को विचारों के चयन में बड़ी सावधानी बरतनी पड़ती है क्योंकि मनुष्य के दुश्मन, मनुष्य को ललचाते है और मनुष्य को लगता है कि वही उसके दोस्त है|

जो लोग इस खेल को खेलना सीख जाते है वे सफल हो जाते है और जो लोग इस खेल को समझ नहीं पाते वे बर्बाद हो जाते है|

इस खेल में ज्यादातर लोगों कि समस्या यह नहीं है कि वे अपने दोंस्तों और दुश्मनों को पहचानते नहीं बल्कि समस्या यह है कि वे दुश्मनों को पहचानते हुए भी उन्हें चुन लेते है|

ईश्वर (या सकारात्मक शक्तियाँ), मनुष्य को समय-समय पर कई तरीकों से यह समझाते रहते है कि इस खेल को कैसे खेलना है लेकिन यह खेल मनुष्य को ही खेलना पड़ता है| जब मनुष्य इसमें हारता रहता है और यह भूल जाता है कि इस खेल को कैसे खेलना है तो ईश्वर फिर उसे बताते है कि इस खेल को कैसे खेलना है|

————————————- यही है जीवन

अन्य जिंदगी बदल देने वाले लेख पढ़िए 

सारी परेशानियों की जड़ – Stress Management in Hindi

10 Life Lessons From Failure in Hindi

“एक नयी शुरुआत” – Success Tips in Hindi

Posted

187 thoughts on “जीवन क्या है? What is Life In Hindi

  1. insaan kada hota hain pir girta hain aur aisa motivational thoughts use sabse jyaada madad karte hain kade hone main

  2. बहुत ही बढ़िया लेख, जीवन की सार्थकता यही हैं की मनुष्य अपने नाकरात्मक विचारों से लड़े और उस पर विजय प्राप्त करे, जीवन हर पल कुछ अच्छा या कुछ बुरा चलता ही रहता हैं, यही जीवन हैं. आपका धन्यवाद….

  3. Jivan ek soch hai
    Jub insan duaniya Me janm leta hai
    To usake pas kuch nahi hota
    Sirf sharir hota hai
    Aur jub insan dhire dhire bada hota hai
    To usaki soch vichar bad jati hai

    Insan apane jeevan me apane vicharo ko
    Yani ke soch ko repeat karta raheta hai

    Insan zindagi me har Roz wahi kaam karta hai
    Jo o pahele kar chuka hai

    Jivan sirf ek soch hai
    Example
    Ager use jungle me chhoda jaye to o jungli ban jayega
    Aur
    Shaher me chhoda jaye to shaheri ban jayega

    A sub jivan apne soch aur dimag par chalta hai

  4. always should be happy and think positive. then we achieve a great success with a hard struggle.

  5. भौतिक जीवन विचारो के साथ है और अध्यात्मिक जीवन विचार विहिन है

  6. bhot acha likha hai life ke bare mei…. life is a game
    apke vicharo se kuch log is jeevan mei kai ache dost bnayege or vo bhi jaldi( Positive thoughts)

  7. its right life is a big game…but how can play..its very tuff….realy am so sad beacose kya karu kuch samjh ni aa raha hain…now my age only 17+ but phir bhi bhot problam main hu…

  8. ITS RIGHT LIFE IS BIG GAME BUT HOW CAN PLAY ITS VERY .TUFF .REALY AM SO SAD BECAUSE I DONTNOT SOMTHING BUT LIFE IS BERY BEG GAME

  9. अतिउत्तम महोदय आप का यह लेख पढ कर में काफी प्रभावित हुआ हूँ। अत: आप के विचार बहुत अच्छे से एवं सही प्रकार से मुझे समझ में आये । वास्तव में जीवन क्या है।
    यह लेख लिखने के लिए। में आप का धन्यवाद करता हूँ।
    और आशा करता हूँ। की आगे भी आप हम को ऐसे उचतम विचारो से अवगत करते रहेंगे ।
    धन्यवाद

  10. kuch v pdho bs dhyaan rakho ki aap us chiz ko apni life mein kaise utaar rhe ho. jivan hal pal kuch naya sikhata hai har pal mein aanand hai wo hum per depend hai ki hum kis trh jeete hai, ye vichaar v spko apne apne nazariye se jeene ki soch de rhe hai. nice thought.

  11. Any time keep your thoughts in positive so ur life make better. My dear friend life is so beautiful enjoy your life with positive thoughts.

  12. आपने ये नहीं बताया कि जीवन के इस खेल का प्रियोजन क्या है? मतलब विचारों के इस खेल से हम क्या पाना चाहते हैं? दुसरे शब्दों में इस जीवन का उद्देश्य क्या है?

    • इसका जवाब अभी तक मुझे भी मिला नहीं हैं| जब मिल जाएगा तो जरूर प्रकाशित करूंगा

  13. This is true because we are doing anything’s but we are thinking is only positive not negative. ..

    I like this quotes of life. .

    Thanks. .
    William Shakespeare. .

  14. जीवन एक उम्मीद है,आशा है,स्वप्न है…जो कर्मों के आधार पर सफल तथा व्यर्थ होता है ।
    इसका सम्बंंध सोच,समय,परिस्थिति से है जो इसको समय-समय भिन्नार्थी बनाते है ।

  15. सार्थक मे सार्थक्ता औऱ सभंव मे संभवता ही हमारे सफलता का राज छुपा है । आपकी कहानियां सत्य
    है और जीवन की कडियो से जुडी हुई हैं।धन्यवाद।

  16. sahi h par kya life bs ye h ki ek child jo abhi bachha h phir vo school jayega life ke rule sikhega or pdte pdte ya sikhte sikhte bda hoga phir us ki sadi hogi or vo bs ek bat hi sochega ghar chlana h bs or kuch nhi paise chahiye kam karega sam ko ghar aayega khana kha kar so jayega bs phir ye hi chalta rhega or ek din vo khTam ho jayega sb ye hi h life kabhi sochaa h ye hi life h kya kyo aaye aapn es jagab bs ye fix program h bs es liye sayad nhi
    hm.kud bhi nhi jante par ye sochna apn socity ke rule m.etne bde hue h ki apni life or apni life se attech kisi bhi chiz ko positive or target ke rop m nhi dekh pa rahe h

  17. Thnku so much Sir because you r right I am agree with you this talk….
    but remeber we every person’s life is interestedning word…….
    everyone 2 daily fighting….

  18. बहुत अच्छा लगा धन्यवाद मैं समझ गया हूं कि जीवन क्या है thank you

Leave a Comment