स्टीफन हॉकिंग जिन्होंने मौत को मात दे दी – Inspirational Life Story of Stephen Hawking

8 जनवरी 1942, को स्टीफन हॉकिंग (Stephen Hawking) का जन्म हुआ था। हालांकि वे एक अच्छे शिक्षित परिवार में पैदा हुए थे, परन्तु उनके परिवार की आर्थिक अवस्था ठीक नहीं थी।  द्वितीय विश्व युद्ध का समय आजीविका अर्जन के लिए काफी चुनौतीपूर्ण था और एक सुरक्षित जगह की तलाश में उनका परिवार ऑक्सफोर्ड आ गया।

आप को यह जानकार अचरज होगा कि जो Stephen Hawking आज इतने महान ब्रह्मांड विज्ञानी है, उनका स्कूली जीवन बहुत उत्कृष्ट नहीं था|

वे शुरू में अपनी कक्षा में औसत से कम अंक पाने वाले छात्र थे, किन्तु उन्हें बोर्ड गेम खेलना अच्छा लगता था| उन्हें गणित में बहुत दिलचस्पी थी, यहाँ तक कि उन्होंने गणितीय समीकरणों को हल करने के लिए कुछ लोगों की मदद से पुराने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के हिस्सों से कंप्यूटर बना दिया था|

ग्यारह वर्ष की उम्र में स्टीफन, स्कूल गए और उसके बाद यूनिवर्सिटी कॉलेज, ऑक्सफोर्ड गए| स्टीफन गणित का अध्ययन करना चाहते थे लेकिन यूनिवर्सिटी कॉलेज में गणित  उपलब्ध नहीं थी, इसलिए उन्होंने भौतिकी अपनाई। 

विकलांगता – Disability

Story of Stephen Hawking

Image Source – http://www.hawking.org.uk/

ऑक्सफोर्ड में अपने अंतिम वर्ष के दौरान हॉकिंग अक्षमता के शिकार होने लगे| उन्हें सीढ़ियाँ चढ़ने और नौकायन में कठिनाइयों का समाना करना पड़ा| धीरे-धीरे यह समस्याएं इतनी बढ़ गयीं कि उनकी बोली लड़खड़ाने लगी। अपने 21 वें जन्मदिन के शीघ्र ही बाद, उन्हें Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS) नामक बीमारी से ग्रसित पाया गया| इस बीमारी के कारण शरीर के सारे अंग धीरे धीरे काम करना बंद कर देते है और अंत में मरीज की म्रत्यु हो जाती है।

उस समय, डॉक्टरों ने कहा कि स्टीफन हॉकिंग दो वर्ष से अधिक नहीं जी पाएंगे और उनकी जल्द ही मृत्यु हो जाएगी|

धीरे-धीरे हॉकिंग की शारीरिक क्षमता में गिरावट आना शुरू हो गयी|  उन्होंने बैसाखी का इस्तेमाल शुरू कर दिया और नियमित रूप से व्याख्यान देना बंद कर दिया। उनके शरीर के अंग धीरे धीरे काम करना बंद हो गये और उनका शरीर धीरे धीरे एक जिन्दा लाश समान बन गया |

लेकिन हॉकिंग ने विकलांगता को अपने ऊपर हावी होने नहीं दिया। उन्होंने अपने शोध कार्य और सामान्य जिंदगी को रूकने नहीं दिया|

जैसे जैसे उन्होंने लिखने की क्षमता खोई, उन्होंने प्रतिपूरक दृश्य तरीकों का विकास किया यहाँ तक कि वह समीकरणों को ज्यामिति के संदर्भ में देखने लगे।

विकलांगता पर विजय 

जब हर किसी ने आशा खो दी तब स्टीफन अपने अटूट विश्वास और प्रयासों के दम पर इतिहास लिखने की शुरुआत कर चुके थे| उन्होंने अपनी अक्षमता और बीमारी को एक वरदान के रूप में लिए । उनके ख़ुद के शब्दों में “वह कहते हैं,

“मेरी बिमारी का पता चलने से पहले, मैं जीवन से बहुत ऊब गया था| ऐसा लग रहा था कि कुछ भी करने लायक नहीं रह गया है।”

लेकिन जब उन्हें अचानक यह अहसास हुआ कि शायद वे अपनी पीएचडी भी पूरी नहीं कर पायेंगे तो उन्होंने, अपनी सारी ऊर्जा को अनुसंधान के लिए समर्पित कर दिया।

अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने यह भी उल्लेख किया है –

“21 की उम्र में मेरी सारी उम्मीदें शून्य हो गयी थी और उसके बाद जो पाया वह बोनस है ।”

उनकी उनकी बीमारी  ठीक नहीं हुयी और उनकी बीमारी ने उन्हें व्हीलचेयर पर ला दिया और उन्हें एक कंप्यूटर मशीन के माध्यम से बात करने के लिए मजबूर कर दिया, लेकिन वे कभी रुके नहीं|

उनके ख़ुद के शब्दों में

हालांकि मैं चल नहीं सकता और कंप्यूटर के माध्यम से बात करनी पड़ती है, लेकिन अपने दिमाग से मैं आज़ाद हूँ

बावजूद इसके कि स्टीफन हॉकिंग का शरीर एक जिन्दा लाश की तरह हो गया था लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी| वे यात्राएं करते है, सार्वजनिक कार्यक्रमों में भाग लेते है और आज लगभग 74 वर्ष की उम्र में निरंतर अपने शोध कार्य में लगे हुए है। उन्होंने विश्व को कई महत्वपूर्ण विचारधाराएँ प्रदान की और अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में अपना अतुल्य योगदान दिया|

hawking's space dream

2007 में स्टेफन हाकिंग जीरो ग्रेविटी पर उड़ते हुए |

वे अंतरिक्ष में जाना चाहते है और वे कहते है कि उन्हें ख़ुशी होगी कि भले ही उनकी अंतरिक्ष में मृत्यु हो जाए|

जीने की इच्छा और चुनौतियों को स्वीकार करने के लिए तत्परता से स्टेफन हाकिंग ने यह साबित कर दिया कि मृत्यु निश्चित है, लेकिन जन्म और मृत्यु के बीच कैसे जीना चाहते हैं वह  हम पर निर्भर है|

हम ख़ुद को मुश्किलों से घिरा पाकर निराशावादी नज़रिया लेकर मृत्यु का इंतज़ार कर सकतें या जीने की इच्छा और चुनौतियों को स्वीकार कर ख़ुद को अपने सपनों के प्रति समर्पित करके एक उद्देश्यपूर्ण जीवन जी सकते है|

61 Comments

  1. qayyum ahmad February 4, 2016
  2. Parul Agrawal February 5, 2016
  3. Abhishek Shah February 8, 2016
  4. Abhishek Shah February 8, 2016
  5. yogesh yadav February 11, 2016
  6. Basant sharma February 21, 2016
  7. nishant pandit March 4, 2016
  8. khalil March 18, 2016
  9. Krishna March 24, 2016
  10. maniben March 24, 2016
  11. asifali March 25, 2016
  12. Rakshit March 26, 2016
  13. govind singh March 29, 2016
  14. Shuchi March 29, 2016
  15. anilkumar March 30, 2016
  16. alok singh March 31, 2016
  17. shubham April 1, 2016
  18. shubham April 1, 2016
  19. pradeep jain April 2, 2016
  20. Jugal Panchal April 6, 2016
  21. Vipul Shiyal April 6, 2016
  22. BASANT KUMAR Ray April 6, 2016
  23. sanjeev puri April 7, 2016
  24. Tarun panwar April 12, 2016
  25. Avi April 14, 2016
  26. promins April 23, 2016
  27. anmol raj May 3, 2016
  28. srikantakumar May 6, 2016
  29. AchhiGyan May 12, 2016
  30. Devandra choudhary May 14, 2016
  31. Udipta Dutta May 23, 2016
  32. prince arya May 31, 2016
  33. SANDEEP SINGH May 31, 2016
  34. kishan saini June 1, 2016
  35. tulsi ram singh June 1, 2016
  36. Ashish kumar June 14, 2016
  37. Ashish kumar June 14, 2016
  38. Gautam singh June 15, 2016
  39. Uttam Chhatria June 19, 2016
  40. rajesh June 28, 2016
  41. Ajit July 25, 2016
  42. jhankeswar rathia July 27, 2016
  43. Vinod Saroha September 6, 2016
  44. irshad khan September 8, 2016
  45. Brajesh kumar September 23, 2016
  46. sumit singh October 18, 2016
  47. Suraj Dhuria October 28, 2016
  48. Akshansh shakya November 15, 2016
  49. Akshansh shakya November 15, 2016
  50. vikash November 20, 2016
  51. Sandipan December 25, 2016
  52. suraj December 29, 2016
  53. nikhil gunjal January 6, 2017
  54. Kamalpreet Singh February 20, 2017
  55. Arjun Gupta April 10, 2017
  56. sneha April 14, 2017
  57. jaman kr May 1, 2017
  58. Jagdish kumar May 7, 2017
    • Jagdish kumar May 7, 2017
  59. Jagdish kumar May 7, 2017
  60. Pramod Pandey July 4, 2017

Leave a Reply