विनम्रता – “Be Humble” – Interesting True Story of Dilip Kumar in Hindi

आज हैप्पीहिंदी.कॉम पर हम एक सच्ची कहानी प्रकाशित करने जा रहे है, जो महान अभिनेता Dilip Kumar के जीवन से जुड़ी हुई है| यह सच्ची घटना (True Incidence) खुद दिलीप कुमार ने शेयर की थी|

तो पढ़िए एक शानदार प्रेरक प्रसंग दिलीप कुमार के शब्दों में —

True Hindi Story of Dilip Kumar

“उस वक्त की बात है, जब मैं अपने करियर की ऊँचाइयों पर था| एक बार मैं प्लेन में यात्रा कर रहा था| मेरे पास में ही एक व्यक्ति बैठे हुए थे, जिन्होंने सामान्य शर्ट और पेंट पहनी हुई थी| वह दिखने में सामान्य परिवार के व्यक्ति लेकिन शिक्षित मालूम होते थे|

प्लेन के सारे पैसेंजर लगातार मुझे देख रहे थे, लेकिन उनका मेरे ऊपर कोई ध्यान नहीं था| वे आराम से समाचार-पत्र पढ़ रहे थे और खिड़की से झांककर देख रहे थे|

जब चाय आई तो उन्होंने धीरे से उठाकर ले ली|

बातचीत शुरू करने के लिए मैं उनके सामने मुस्कुराया| वे भी मुस्कुराए और उन्होंने मुझे हेल्लो कहा|

हमने बातचीत शुरू की और कुछ ही देर में मैंने “सिनेमा” के विषय पर बातचीत शुरू की|

मैंने कहा – क्या आप फ़िल्में देखते है?

उन्होंने कहा – कभी कभी| मैंने आखिरी फिल्म एक वर्ष पूर्व देखी थी|

मैंने कहा – मैं भी फिल्मों में काम करता हूँ|

उन्होंने कहा – ओह अच्छा| आप फिल्मों में क्या काम करते है ?

मैंने कहा – मैं एक्टर हूँ|

उन्होंने कहा – बहुत अच्छा |

जब प्लेन लैंड हुआ तो मैंने हाथ मिलाया और कहा –

“आपके साथ यात्रा करके अच्छा लगा| वैसे मेरा नाम दिलीप कुमार है (Dilip Kumar)|”

उन्होंने कहा – “धन्यवाद| मेरा नाम जे. आर. डी. टाटा (J. R. D. Tata) है|”

मैं उनका नाम सुनकर सन्न रह गया| आप कितने भी बड़े हो जाओ लेकिन आपसे भी बड़ा हमेशा कोई न कोई होता ही है| घमंड न करें – विनम्र रहें क्योंकि विनम्रता से अच्छी कोई चीज नहीं”

– Dilip Kumar दिलीप कुमार

" A Kumar : ए. कुमार राजस्थान से हैं और वे सामान्य तौर पर खेल, विज्ञान, करियर के बारे में लिखते हैं| उनसे hindihappy@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता हैं."

View Comments (7)