सकारात्मक सोच की शक्ति – The Power of Positive Thinking (Hindi Story)

positive attitude story hindi

सकारात्मक सोच की शक्ति 

The Power of Positive Thinking and Attitude

सकारात्मक सोच (Positive Thinking) के बिना जिंदगी अधूरी है| सकारात्मक सोच की शक्ति से घोर अन्धकार को भी आशा की किरणों (Lights of Hope) से रौशनी में बदला जा सकता है| हमारे विचारों पर हमारा स्वंय का नियंत्रण होता है इसलिए यह हमें ही तय करना होता है कि हमें सकारात्मक सोचना है या नकारात्मक|

हर विचार एक बीज है – Every Thought is a Seed|

हमारे पास दो तरह के बीज होते है सकारात्मक विचार (Positive) एंव नकारात्मक विचार (Negative Thoughts) है, जो आगे चलकर हमारे दृष्टिकोण एंव व्यवहार रुपी पेड़ का निर्धारण करता है| हम जैसा सोचते है वैसा बन जाते है (What we think we become) इसलिए कहा जाता है कि जैसे हमारे विचार होते है वैसा ही हमारा आचरण होता है|

यह हम पर निर्भर करता है कि हम अपने दिमाग रुपी जमीन में कौनसा बीज बौते है| थोड़ी सी चेतना एंव सावधानी से हम कांटेदार पेड़ को महकते फूलों के पेड़ में बदल सकते है|

डेविड एंव गोलियथ की कहानी

David and Goliath Bible Story in Hindi

बाइबिल की एक कहानी काफी प्रसिद्ध है| एक गाँव में गोलियथ नाम का एक ऱाक्षस था। उससे हर व्यक्ति डरता था एंव परेशान था। एक दिन डेविड नाम का भेंङ चराने वाला लङका उसी गाँव में आया जहाँ लोग राक्षस के आतंक से भयभीत थे। डेविड ने लोगों से कहा कि आप लोग इस राक्षस से लङते क्यों नही हो?

तब लोगों ने कहा – “वो इतना बङा है कि उसे मारा नही जा सकता”

डेविड ने कहा – “आप सही कह रहे है कि वह राक्षस बहुत बड़ा है| लेकिन बात ये नही है कि बङा होने की वजह से उसे मारा नही जा सकता, बल्कि हकीकत तो ये है कि वह इतना बङा है कि उस पर लगाया निशाना चूक ही नही सकता।“

फिर डेविड ने उस राक्षस को गुलेल से मार दिया। राक्षस वही था, लेकिन डेविड की सोच अलग थी।

पढ़िए : नजरिया – Attitude Story in Hindi

कौनसे रंग का चश्मा पहना है? Positive or Negative

जिस तरह काले रंग का चश्मा पहनने पर हमें सब कुछ काला और लाल रंग का चश्मा पहनने पर हमें सब कुछ लाल ही दिखाई देता है उसी प्रकार नेगेटिव सोच से हमें अपने चारों ओर निराशा, दुःख और असंतोष ही दिखाई देगा और पॉजिटिव सोच से हमें आशा, खुशियाँ एंव संतोष ही नजर आएगा|

यह हम पर निर्भर करता है कि सकारात्मक चश्मे से इस दुनिया को देखते है या नकारात्मक चश्मे से| अगर हमने पॉजिटिव चश्मा पहना है तो हमें हर व्यक्ति अच्छा लगेगा और हम प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई खूबी ढूँढ ही लेंगे लेकिन अगर हमने नकारात्मक चश्मा पहना है तो हम बुराइयाँ खोजने वाले कीड़े बन जाएंगे|

 

नकारात्मक से सकारात्मक की ओर:-

सकारात्मकता (Positivity) की शुरुआत आशा और विश्वास से होती है| किसी जगह पर चारों ओर अँधेरा है और कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा और वहां पर अगर हम एक छोटा सा दीपक जला देंगे तो उस दीपक में इतनी शक्ति है कि वह छोटा सा दीपक चारों ओर फैले अँधेरे को एक पल में दूर कर देगा| इसी तरह आशा की एक किरण सारे नकारात्मक विचारों को एक पल में मिटा सकती है|

नकारात्मकता को नकारात्मकता समाप्त नहीं कर सकती, नकारात्मकता को तो केवल सकारात्मकता ही समाप्त कर सकती है| इसीलिए जब भी कोई छोटा सा नकारात्मक विचार मन में आये उसे उसी पल सकारात्मक विचार में बदल देना चाहिए|

उदाहरण के लिए अगर किसी विद्यार्थी को परीक्षा से 20 दिन पहले अचानक ही यह विचार आता है कि वह इस बार परीक्षा (Exam) में उत्तीर्ण नहीं हो पाएगा तो उसके पास दो विकल्प है – या तो वह इस विचार को बार-बार दोहराए और धीरे-धीरे नकारात्मक पौधे को एक पेड़ बना दे या फिर उसी पल इस नेगेटिव विचार को पॉजिटिव विचार में बदल दे और सोचे कि कोई बात नहीं अभी भी परीक्षा में 20 दिन यानि 480 घंटे बाकि है और उसमें से वह 240 घंटे पूरे दृढ़ विश्वास के साथ मेहनत करेगा तो उसे उत्तीर्ण होने से कोई रोक नहीं सकता| अगर वह नेगेटिव विचार को सकारात्मक विचार में उसी पल बदल दे और अपने पॉजिटिव संकल्प को याद रखे तो निश्चित ही वह उत्तीर्ण होगा|

“सकारात्मक सोचना या न सोचना हमारे मन के नियंत्रण में है और हमारा मन हमारे नियन्त्रण में है| अगर हम अपने मन से नियंत्रण हटा लेंगे तो मन अपनी मर्जी करेगा और हमें पता भी नहीं चलेगा की कब हमारे मन में नकारात्मक पेड़ उग गए है|”

पढ़िए:

Best Positive Attitude Tips and Status That Will Inspire You

Nick Vujicic जिसने बिना हाथ पैरों के जीती है, ज़िंदगी की जंग – Unbelievable Life Story in Hindi

123 Comments

  1. RAHUL DUBEY July 13, 2015
    • HAPPYHINDI July 14, 2015
  2. savio September 3, 2015
  3. poonam September 15, 2015
  4. aatefa arif September 27, 2015
  5. jagmohan October 2, 2015
  6. kanti lal meena October 10, 2015
  7. Aapki Safalta October 28, 2015
    • sagar sharan tiwari July 30, 2016
  8. deep November 2, 2015
  9. Kamal November 9, 2015
  10. jagdish December 2, 2015
  11. Atech System December 9, 2015
  12. Ajay December 9, 2015
  13. Mukesh Kumar Mali December 10, 2015
  14. ENJALI BISHT December 21, 2015
  15. ms zafar December 22, 2015
  16. Sahil December 24, 2015
  17. shivveer December 31, 2015
  18. NAVEEN January 5, 2016
  19. kanchan January 12, 2016
  20. फैजान कुरैशी January 12, 2016
  21. omkar bhondve January 16, 2016
  22. Alpesh patel January 23, 2016
  23. om ranjan yadav January 24, 2016
  24. preeti January 24, 2016
  25. naveen February 6, 2016
  26. praveen thakur February 7, 2016
  27. Deepak Dixit February 10, 2016
  28. ashik barse February 11, 2016
  29. mahendra kumar February 13, 2016
  30. vijay kumar February 14, 2016
  31. kp david February 17, 2016
  32. kp February 17, 2016
  33. pradip February 18, 2016
  34. mayui bisen February 18, 2016
  35. Prakash February 19, 2016
  36. dev kant sharma February 24, 2016
  37. Navnath telure February 24, 2016
  38. Jagannatha February 29, 2016
  39. Bharat bhushan February 29, 2016
  40. Amol ganesh rakhade March 3, 2016
  41. dhanjee March 3, 2016
    • ankit March 27, 2016
  42. nupur March 9, 2016
    • raj brahpuria March 17, 2016
  43. ravi kumar March 17, 2016
  44. Rituasooja rishikesh March 18, 2016
    • gaurav May 30, 2016
  45. RAJENDRA KOCHURE March 21, 2016
    • HAPPYHINDI March 21, 2016
  46. Hinglishpedia March 22, 2016
    • SHAKIL June 7, 2017
  47. NITIN REGAR March 28, 2016
  48. gyanendra Dewangan March 29, 2016
  49. M bhushan April 6, 2016
  50. bijay gupta April 19, 2016
  51. Mahendra April 19, 2016
  52. ramesh April 23, 2016
  53. sonu gupta vllage bagharavara post adhanpur distic jaunpur utter predesh April 30, 2016
  54. Muhammad Motin May 6, 2016
    • Deependra May 26, 2017
  55. Baljeet tusham May 14, 2016
  56. Sanju saxena May 15, 2016
  57. Sanju saxena May 15, 2016
  58. श्री कृष्ण मौयॆ May 18, 2016
  59. Aryan kumar May 19, 2016
  60. Sabina May 26, 2016
  61. Rajesh May 27, 2016
  62. gaurav May 30, 2016
  63. Kirti Bisht June 8, 2016
  64. Hakumat sinh jadeja June 14, 2016
  65. minal June 24, 2016
  66. Harsh July 5, 2016
  67. denis das July 5, 2016
  68. Shyam Singh Tomar July 10, 2016
  69. Shyam Singh Tomar July 10, 2016
  70. sureah July 12, 2016
  71. Mrs. Nahid Anjum Shaikh July 15, 2016
  72. sanjaygiri July 19, 2016
  73. sourav kumar July 22, 2016
    • HAPPYHINDI July 22, 2016
  74. Gunjeshwar kumar shah July 24, 2016
  75. vinita July 28, 2016
  76. Hitu Jani July 31, 2016
    • HAPPYHINDI July 31, 2016
  77. Ravi August 4, 2016
  78. BIJAY KUMAR August 18, 2016
  79. jyoti August 21, 2016
  80. Eknath Tadvi September 6, 2016
  81. ram kumar September 25, 2016
  82. Anupama September 27, 2016
  83. Anupama September 27, 2016
  84. Manpreet singh September 28, 2016
  85. Nagesh R.Bhatlawande September 29, 2016
  86. RUPESH October 2, 2016
  87. Dharam October 12, 2016
  88. Naveen October 13, 2016
  89. Somesh October 16, 2016
  90. Deepali Agrawal October 19, 2016
  91. amu October 24, 2016
  92. usmaan October 27, 2016
  93. bhoopender kumar November 5, 2016
  94. krishna November 8, 2016
  95. vikas saini November 15, 2016
  96. Arun rajput November 24, 2016
  97. Arun rajput November 24, 2016
  98. प्रभाष November 25, 2016
  99. Monu Sheoran November 28, 2016
  100. anjana December 12, 2016
  101. Swati kumari December 27, 2016
  102. siddharth p January 5, 2017
  103. shailaja January 13, 2017
  104. Vivek mishra January 14, 2017
  105. Manjula January 19, 2017
  106. Kavita Jain January 19, 2017
  107. hitesh January 22, 2017
  108. vikash shukla January 26, 2017
  109. Vinod March 12, 2017
  110. Rohit Kumar Sharma May 27, 2017
  111. jibon ray May 30, 2017
  112. brahmanand June 5, 2017
  113. rao June 8, 2017

Leave a Reply