बस कंडक्टर से सुपरस्टार बनने की कहानी – Life Story of Rajnikanth in Hindi

रजनीकांत – आम लोगों के लिए उम्मीद का प्रतीक| यह कहना कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी कि रजनीकांत ऐसे इंसान हें जिन्होंने फर्श से अर्श तक आने की कहावत को सत्य साबित करके बताया हो| दुनिया में ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने बड़ी बड़ी सफलताएं अर्जित की पर जिस तरह रजनीकांत ने अभावों और संघर्षों में इतिहास रचा है वैसा पूरी दुनिया में कम ही लोग कर पाएं होंगे|

एक कारपेंटर से कुली बनने, कुली से बी.टी.एस. कंडक्टर और फिर एक कंडक्टर से विश्व के सबसे ज्यादा प्रसिद्ध सुपरस्टार बनने तक का सफ़र कितना परिश्रम भरा होगा ये हम सोच सकते हैं|

रजनीकांत का जीवन ही नहीं बल्कि फिल्मी सफ़र भी कई उतार चढ़ावों से भरा रहा है| जिस मुकाम पर आज रजनीकांत काबिज़ हैं उसके लिए जितना परिश्रम और त्याग चाहिए होता है शायद रजनीकांत ने उससे ज्यादा ही किया है|

संघर्षपूर्ण बचपन – Early Life of Rajnikanth

रजनीकांत का जन्म 12 दिसम्बर 1950 को कर्नाटक के बैंगलोर में एक बेहद मध्यमवर्गीय मराठी परिवार में हुआ था| वे अपने चार भाई बहनों में सबसे छोटे थे| उनका जीवन शुरुआत से ही मुश्किलों भरा रहा, मात्र पांच वर्ष की उम्र में ही उन्होंने अपनी माँ को खो दिया था| पिता पुलिस में एक हवलदार थे और घर की माली स्तिथि ठीक नहीं थी| रजनीकांत ने युवावस्था में कुली के तौर पर अपने काम की शुरुआत की फिर वे ब.टी.एस में बस कंडक्टर (bus conductor) की नौकरी करने लगे|

 

रजनीकांत का अंदाज़ – Style of Rajnikanth 

kabali rajankikanth poster hindi

 

एक कंडक्टर के तौर पर भी उनका अंदाज़ किसी स्टार से कम नहीं था| वो अपनी अलग तरह से टिकट काटने और सीटी मारने की शैली को लेकर यात्रियों और दुसरे बस कंडक्टरों के बीच विख्यात थे| कई मंचों पर नाटक करने के कारण फिल्मों और एक्टिंग के लिए शौक तो हमेशा से ही था और वही शौक धीरे धीरे जुनून में तब्दील हो गया|

लिहाज़ा उन्होंने अपना काम छोड़ कर चेन्नई के अद्यार फिल्म इंस्टिट्यूट में दाखिला ले लिया| वहां इंस्टिट्यूट में एक नाटक के दौरान उस समय के मशहूर फिल्म निर्देशक के. बालाचंदर की नज़र रजनीकांत पर पड़ी और वो रजनीकांत से इतना प्रभावित हुए कि वहीँ उन्हें अपनी फिल्म में एक चरित्र निभाने का प्रस्ताव दे डाला| फिल्म का नाम था अपूर्व रागांगल| रजनीकांत की ये पहली फिल्म थी पर किरदार बेहद छोटा होने के कारण उन्हें वो पहचान नहीं मिल पाई, जिसके वे योग्य थे| लेकिन उनकी एक्टिंग की तारीफ़ हर उस इंसान ने की जिसकी नज़र उन पर पड़ी|

विलेन से हीरो बने – Filmi Career of Rajnikanth

रजनीकांत का फिल्मी सफ़र भी किसी फिल्म से कम नहीं| उन्होंने परदे पर पहले नकारात्मक चरित्र और विलेन के किरदार से शुरुआत की, फिर साइड रोल किये और आखिरकार एक हीरो के तौर पर अपनी पहचान बनाई|

हालांकि रजनीकान्त,  निर्देशक के. बालाचंदर को अपना गुरु मानते हैं पर उन्हें पहचान मिली निर्देशक एस.पी मुथुरामन की फिल्म चिलकम्मा चेप्पिंडी से|  इसके बाद एस.पी. की ही अगली फिल्म ओरु केल्विकुर्री में वे पहली बार हीरो के तौर पर अवतरित हुए| इसके बाद रजनीकांत ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और दर्जनों हिट फिल्मों की लाइन लगा दी| बाशा, मुथू, अन्नामलाई, अरुणाचलम, थालाप्ति उनकी कुछ बेहेतरीन फिल्मों में से एक हैं}|

उम्र कोई मायने नहीं रखती – Age is just a number

रजनीकांत ने यह साबित कर दिया की उम्र केवल एक संख्या है और अगर व्यक्ति में कुछ करने की ठान ले तो उम्र कोई मायने नहीं रखती| 65 वर्ष के उम्र के पड़ाव पर वे आज भी वे शिवाजी- द बॉस, रोबोट, कबाली  जैसी हिट फिल्में देने का माद्दा रखते हैं|

kabali poster rajanikanth
रजनीकांत की फिल्म कबाली का पोस्टर | 65 वर्षीय रजनीकांत के लोग इतने दीवाने है कि कबाली फिल्म ने रिलीज़ होने से पहले ही 200 करोड़ रूपये कमा लिए |

 

एक समय ऐसा भी था जब एक बेहतरीन अभिनेता होने के बावजूद उन्हें कई वर्षों तक नज़रंदाज़ किया जाता रहा पर उन्होंने अपनी हिम्मत नहीं हारी| ये बात रजनीकांत के आत्मविश्वास को और विपरीत परिस्तिथियों में भी हार न मानने वाले जज्बे का परिचय देती है|

जमीन से जुड़े हुए – Humbleness of Rajnikanth

real life photo rajinikanth biographyरजनीकांत आज इतने बड़े सुपर सितारे होने के बावजूद ज़मीन से जुड़े हुए हैं| वे फिल्मों के बाहर असल जिंदगी में एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही दिखते है| वे दूसरे सफल लोगों से विपरीत असल जिंदगी में धोती-कुर्ता पहनते है| शायद इसीलिए उनके प्रशंसक उन्हें प्यार ही नहीं करते बल्कि उनको पूजते हैं|

रजनीकांत के बारे में ये बात जगजाहिर है कि उनके पास कोई भी व्यक्ति मदद मांगने आता है वे उसे खाली हाथ नहीं भेजते| रजनीकांत कितने प्रिय सितारे हैं, इस बात का पता इसी से लगाया जा सकता है कि दक्षिण में उनके नाम से उनके प्रशंशकों ने एक मंदिर बनाया है| इस तरह का प्यार और सत्कार शायद ही दुनिया के किसी सितारे को मिला हो|

चुटुकलों की दुनिया में रजनीकांत को ऐसे व्यक्ति के रूप में जाना जाता है जिसके लिए नामुनकिन कुछ भी नहीं और रजनीकांत लगातार इस बात को सच साबित करते रहते है| आज वे 65 वर्ष की उम्र में रोबोट-2 फिल्म पर काम कर रहे है, उनका यही अंदाज लोगों के दिलों पर राज करता है|

38 thoughts on “बस कंडक्टर से सुपरस्टार बनने की कहानी – Life Story of Rajnikanth in Hindi

  1. इसलिए तो उन्हें रजनीकांत कहते हैं, No Body can’t do Only Ranjikant Do. Salute RajniKant sir.

  2. Sach me Rajnikant ji ek achche actor hone ke sath sath ek achche insan bhi hain.very good writing keep it up.

  3. I am big fan of Rajni Sir.. he is really a superstar.. he is down to earth person.. Thanks for sharing the great story of Rajni Sir

  4. Sir, Thanks for shear your life story, relay sir i like you,. mene har Sunday aap ki film dekh ta hu mujhe bahut acha lagta or special picture Lingaa, my favorite picture. thanks rajni sir. One of my desire to meet you, please you help me for meet you.

  5. Sir, Thanks for shear your life story, relay sir i like you,. mene har Sunday aap ki film dekh ta hu mujhe bahut acha lagta or special picture Lingaa, my favorite picture. thanks rajni sir. One of my desire to meet you, please you help me for meet you. mera ek echa ki aap hamesha garib ko madat karo. sir bahut acha kaam hai like you sir. bar bar aap namskar hai.

  6. sir,,,phle to me aapko thanx kahta hu ki,,,aap,,,hum sabhi ko prerit karte ho,,,,,,,,,me yah janana chahata hu ki,,,,,,,,,muje duniya janni chahaiye ,,,,,,me famous hona chahta hu,,,,,iske liye kya kru,,,,,,,,plz,,,,,,,reply coming soon,,,,,

  7. Sir ki style to bahut achi h but sayad koi aisa insan hoga jo sab ke dilo per raj karta hoga bache se leke admi tak and main khud sir ko salam karta hu kabhi na kabhi jindi me jaroor milunga sir

  8. Main bhi yek singer banana chahta hu but garib aisi h ki aur na hi koi saport karne vala but dil me yek gujta h singer air WO karunga sir aur usi samay app se milunga sir kahte h agar insan jo than le wo karke dikhayega

Leave a Comment