संत कबीर दास के लोकप्रिय दोहे – Kabir Ke Dohe with Meaning in Hindi

संत कबीर दास के लोकप्रिय दोहे – Kabir Ke Dohe with Meaning in Hindi

संत कबीर (Kabir) जी का हिंदी साहित्य (Hindi Sahitya) में विशिष्ट स्थान है| वे बड़ी बड़ी बातों को अपने दोहों के माध्यम से बड़ी सरलता से समझा देते थे| कबीर दास के दोहे (Kabir ke Dohe) समझकर इन्सान यह समझ जाता है कि उसे क्या करना चाहिए और क्या नहीं| उनके दोहे हिन्दू मुस्लिम एकता को प्रोत्साहित करते है और यह बतलाते है कि लोग धर्म के नाम पर आपस में झगड़ते है लेकिन इस सच्चाई को नहीं जान पाते कि भगवान तो सभी के होते है|

 संत कबीर के दोहे – Kabir Ke Dohe

दोहा:- हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी  मरे, मरम न जाना कोई।

अर्थ : कबीर दास जी कहते है कि हिन्दुओं को राम प्यारा है और मुसलमानों (तुर्क) को रहमान| इसी बात पर वे आपस में झगड़ते रहते है लेकिन सच्चाई को नहीं जान पाते |

दोहा:- काल करे सो आज कर, आज करे सो अब

     पल में प्रलय होएगी, बहुरि करेगो कब |

अर्थ: कबीर दास जी कहते हैं कि जो कल करना है उसे आज करो और जो आज करना है उसे अभी करो| जीवन बहुत छोटा होता है अगर पल भर में समाप्त हो गया तो क्या करोगे|

 

दोहा:- धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय

     माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय|

अर्थ: कबीर दास जी कहते है कि हमेशा धैर्य से काम लेना चाहिए| अगर माली एक दिन में सौ घड़े भी सींच लेगा तो भी फल तो ऋतु आने पर ही लगेंगे|

दोहा:- निंदक नियरे राखिए, आंगन कुटी छवाय

     बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय|

अर्थ: कबीर जी कहते है कि निंदा करने वाले व्यक्तियों को अपने पास रखना चाहिए क्योंकि ऐसे व्यक्ति बिना पानी और साबुन के हमारे स्वभाव को स्वच्छ कर देते है|

दोहा:- माँगन मरण समान है, मति माँगो कोई भीख

माँगन ते मरना भला, यह सतगुरु की सीख|

अर्थ: कबीरदास जी कहते कि माँगना मरने के समान है इसलिए कभी भी किसी से कुछ मत मांगो|

दोहा:- साईं इतना दीजिये, जा मे कुटुम समाय

     मैं भी भूखा न रहूँ, साधु ना भूखा जाय|

अर्थ: कबीर दास जी कहते कि हे परमात्मा तुम मुझे केवल इतना दो कि जिसमे मेरे गुजरा चल जाये| मैं भी भूखा न रहूँ और अतिथि भी भूखे वापस न जाए|

दोहा:- दुःख में सुमिरन सब करे, सुख में करै न कोय

     जो सुख में सुमिरन करे, दुःख काहे को होय|

अर्थ:- कबीर कहते कि सुख में भगवान को कोई याद नहीं करता लेकिन दुःख में सभी भगवान से प्रार्थना करते है| अगर सुख में भगवान को याद किया जाये तो दुःख क्यों होगा|

दोहा:- तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय।

अर्थ:- कबीर दास जी कहते है कभी भी पैर में आने वाले तिनके की भी निंदा नहीं करनी चाहिए क्योंकिं अगर वही तिनका आँख में चला जाए तो बहुत पीड़ा होगी|

दोहा:- साधू भूखा भाव का, धन का भूखा नाहिं
     धन का भूखा जी फिरै, सो तो साधू नाहिं।

अर्थ:- कबीर दास जी कहते कि साधू हमेशा करुणा और प्रेम का भूखा होता और कभी भी धन का भूखा नहीं होता| और जो धन का भूखा होता है वह साधू नहीं हो सकता|

दोहा:- माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।

अर्थ:- कबीर जी कहते है कि कुछ लोग वर्षों तक हाथ में लेकर माला फेरते है लेकिन उनका मन नहीं बदलता अर्थात् उनका मन सत्य और प्रेम की ओर नहीं जाता| ऐसे व्यक्तियों को माला छोड़कर अपने मन को बदलना चाहिए और सच्चाई के रास्ते पर चलना चाहिए|

दोहा:- जग में बैरी कोई नहीं, जो मन शीतल होय
यह आपा तो डाल दे, दया करे सब कोय।

अर्थ:- कबीर दास जी कहते है अगर हमारा मन शीतल है तो इस संसार में हमारा कोई बैरी नहीं हो सकता| अगर अहंकार छोड़ दें तो हर कोई हम पर दया करने को तैयार हो जाता है|

दोहा:- जैसा भोजन खाइये , तैसा ही मन होय
     जैसा पानी पीजिये, तैसी वाणी होय।

अर्थ:- कबीर दास जी कहते है कि हम जैसा भोजन करते है वैसा ही हमारा मन हो जाता है और हम जैसा पानी पीते है वैसी ही हमारी वाणी हो जाती है|

दोहा:- कुटिल वचन सबतें बुरा, जारि करै सब छार
     साधु वचन जल रूप है, बरसै अमृत धार।

अर्थ:- बुरे वचन विष के समान होते है और अच्छे वचन अमृत के समान लगते है|

दोहा:- जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ

     मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ|

अर्थ:- जो जितनी मेहनत करता है उसे उसका उतना फल अवश्य मिलता है| गोताखोर गहरे पानी में जाता है तो कुछ ले कर ही आता है, लेकिन जो डूबने के डर से किनारे पर ही बैठे रह जाते हैं वे कुछ नहीं कर पाते हैं|

 

पढ़िए 

रहीम जी के दोहे – Rahim Ke Dohe

Gita Saar in Hindi – 9 बातें जो हम भगवद गीता से सीख सकते हैं

 

149 thoughts on “संत कबीर दास के लोकप्रिय दोहे – Kabir Ke Dohe with Meaning in Hindi

  1. kabir dasji ke sabhi dohe marmik avm jeevan me utarne ke liye hi hai mujhe sabhi dohe acche lagate hai bar bar padhane ka man karta hai

  2. boht ache he sant shree kabir Dash ji ke Dohe muje sunkar boht hi ache lagte he jb me kabir Dash ji ke Dohe sunta hu sant shree kabir Dash ji ke chrno me namn

  3. सिरफिरे होते हैं इतिहास वो ही लिखते हैं..
    समझदार तो सिर्फ उसे पढते हैं..।।

  4. जिन्देगी को सुधारने बाली बात।कबिर जिकी दोहा से मैने बहुमूल्य तथ्य पाया हुं।

  5. Kabir dass ji ke dohe bahut he sarthak va bhav se bhare huai hain jo jeevn me hamesa kam aate hain mujhe ek ek sabad rash se bhara lagta hi yah mujhe bhaut he pasand hain hamen kabir ji ka samaan karna chahia tatha unke doho ko jeevan me saakar karne ka paryash karna chaya.

  6. Kabeer is real god because u look at gita,veda,guru grant sahib,quraan mazeed.bible book showing the truth and saying kabeer is real god

  7. कवीर जी की वाणी वहुत सुन्दर है, इसको पढ़ना नहीं वरना मन में उतारना चाहिये क्योंकि कबीरजी ने स्वंय कहा जिन खोजा तिन पाया ,गहरे पानी पैठ, मैं वापुरी ढूंढन गई रही किनारे वैठ ! कहने का भाव है कि जव हम पानी में उतरेंगे नहीं तो भीगेंगे कैसे अर्थात भीगने के लिये पानी में उतरना पडेगा यानि ध्यान में उतरना !

  8. Thanks a lot, this is just the right thing needed for my Hindi Project. I luvd and enjoyed reading them. Just add a few more..♣••~

  9. सुख का भुखा सब कोइ दुःख का न भुखा कोइ। जब सबका सुखइ तौ दुःख कहा का जाइ॥ अर्थ= कबीर जी ने कहा है सुख की चाहा सभी रखते है पर यहा नही जान पाते यहा सुख अनेक प्रकार के दुःखो को काट कार ही सुख की रचना हुई है

    • संत कबीर ने अपनी तुलना भगवान से कभी नहीं की| आप कबीर के बहुत सारे दोहो में ऐसा पायेगे की उन्होने अपनी तुलना भगवान से नही करने की बात की है| He always considered himself as a devotee of god , not god.

  10. Sbse pahle savi ko sa prem naman, mai sav logo se bs itna kahna chahta hu ki kabirji ke doho ko bs dohe samjh kr mt lijiye in dohe ka jb tk koi mol ni jb tk ye humare jivan me ni uter jate h mai to ye kahta hu kisi v achi bat ka kisi v gyan ka tb tk koi mol ni jb tk jivan me na uter jaye khud ke acha h kya bat h maja a gaya bs itne se kam ni chalta khud ke andr bitha lo ye kabir ji h sbke pyare h inhone kisi vises jaati dhrm ke liye ni bola kuch v balki puri manusya jaati ko jagaya h or kaha dhyan dijiye…
    Sab janme ek beej se, sabki mitti ek! Man me dubidha pad gai, ho gaye roop anek!!
    Jo tu sacha baniya, sbse eksa bol! Uch nich ko chhod de, ek baraber tol!!
    Uche kul ke karan tu, duniya bhul rha! jab tan mitti ho jayega, tb kul ka hoga kya!!
    Kahat kabir na garb kr, na kisi ki hasi uda ! Av teri v naiya samudra me, jaane kya ho jaye…

  11. “यही कबीर का गाँव ”
    मेरा देश महान मनुमा अपने ठान देश का तू शान ,हिन्दुस्तान दोस्तों |
    होता गीत गान कृष्ण जहां विद्वान मानवता का मान ,है भारत महान ||हिन्दुस्तान …
    शारीरिक शक्तिमान परिवार स्नेह ठान लाए देश जान ,हिन्दुस्तान दोस्तों |
    भगत आजाद वान अपना देश महान यह अयोध्या धाम ,हिन्दुस्तान दोस्तों ||
    राणा शिवा ललकार गांधीवादी विचार शान्ति तलवार ,हिन्दुस्तान दोस्तों |
    वन्देमातरम दमदार राष्ट्रध्वनिधार त्याग पर अधिकार ,हिन्दुस्तान दोस्तों ||
    ईशु का प्रेम विज्ञान गुरुनानक का ज्ञान खुदा का सम्मान ,हिन्दुस्तान दोस्तों |
    है धर्म ही विज्ञान जहां बुद्ध का मान जी सीता सम्मान ,हिन्दुस्तान दोस्तों ||
    वसते वहा भगवान श्रद्धा ही दान – सुनाते वेद पुराण ,हिन्दुस्तान दोस्तों |
    पड़े मान्धाता पाँव नारद मुनि क ठाँव यही कबीर गाँव ,हिन्दुस्तान दोस्तों ||हिन्दुस्तान

  12. हस्ति चढिये ज्ञान कोौ,सहज दुलिचा डारी
    स्वान रूप संसार है, भुंकन दे झक मारी

  13. This website is really cool. I have bookmarked it. Do you
    allow guest post on your site ? I can write hi quality articles for
    you. Let me know.

  14. पहले तो धन्यवाद करना चाहता हूं इस साइड का जो हमें इतनी ज्ञान भरी उपलब्ध कराया ????☺☺☺/
    यह पढ़कर मुझे बहुत ही अच्छा लगा और इसमें मुझे बहुत अच्छे अच्छे ज्ञान मिले मैं चाहता हूं कि आप लोग भी इसे पढ़े

  15. kabir saheb …hi purn parmatma h bhailog…agar kisi ko bharosa nhi ho rha h to …”.sadhna channel roj raat 7:45 pm se 8:45pmTak dekhe ….jagat guru tatwadarsi sant rampal ji maharaja ke amrit vachan….jo sakshaat kabir saheb ke avatar h ….sat saheb

  16. बहुत अच्छी जानकारियाँ ,बधाई सभी साइट पर आये हुए साथियों को | सद्भावना सहित

Leave a Comment