कहानी : खुद को बदलिए : Change Yourself Hindi Story

हम कई बार अपनी समस्याओं एंव दुखों का कारण इस संसार या अन्य लोगों को मानते है और सोचते है कि “काश हम इस संसार को बदल सकते”| लेकिन सच तो यह है कि हमारी समस्याओं की वजह हम स्वंय होते है| अगर हम संसार कि जगह स्वंय के बारे में थोड़ा सा सोच ले और बदलाव ले आयें तो हमारी ज्यादातर समस्याएँ मिट सकती है|

 

कहानी : Hindi Story – Change Yourself 

एक नगर में एक राजा रहता था| राजा जब भी महल से बाहर जाता, हमेशा अपने घोड़े पर ही जाता था| एक बार वह अपने नगर को देखने एंव जनता की समस्याओं को सुनने के लिए पैदल ही भ्रमण पर निकला| उस समय जूते नहीं होते थे इसलिए जमींन पर कंकड़ और पत्थरों के कारण राजा के पैर दुखने लगे| राजा ने इस समस्या के हल के लिए अपने मंत्रियों की एक बैठक बुलाई|

ज्यादातर मंत्रियों का यही सुझाव था कि क्यों न पूरे नगर के रास्ते को चमड़े की मोटी परत से ढक दिया जाए|

लेकिन इसके लिए बहुत सारे धन एंव अन्य संसाधनों की जरूरत थी|

तभी राजा के पास खड़े एक सिपाही ने सुझाव दिया कि पूरे नगर को चमड़े की परत से ढकने से अच्छा यह है कि क्यों न हम अपने पैरों को ही चमड़े की परत से ढक दें| इससे न केवल हमारे पैर सुरक्षित रहेंगे बल्कि ज्यादा धन भी खर्च नहीं होगा|

सिपाही का सुझाव सुनकर राजा प्रसन्न हुआ और उसने सभी के लिए “जूते” बनवाने का आदेश दिया|

 

Moral of the Hindi Story

Change Yourself – “खुद में वो बदलाव कीजिए जो आप इस संसार में देखना चाहते है|”

39 thoughts on “कहानी : खुद को बदलिए : Change Yourself Hindi Story

Leave a Comment